अक्टूबर 5, 2022

____आपको रखे सबसे आगे______

फोर व्हीलर बॉडी में छुपा कर तस्करी कर लाया जा रहा था 90 किलो गांजा बरामद पहली बार में पुलिस भी खा गई चकमा, मजबूत सूचना तंत्र पर दूसरी बार में आया पकड़ में।

मोनिका – अररिया


अररिया एसपी हृदयकान्त के निर्देश पर नशा और नशेबाजों के खिलाफ चले आज विशेष अभियान में जोकीहाट थाना पुलिस ने पश्चिमबंगाल से तस्करी कर लाये जा रहे 90 किलो गांजा बरामद किया।गांजा का 14 बड़ा और 10 छोटा पैकेट को कार के पीछे वाले डिक्की में लगे साउंड सिस्टम के अंदर छिपाकर रखा हुआ था।मामले में पुलिस ने गाड़ी के ड्राइवर समेत दो को गिरफ्तार किया है।सदर एसडीपीओ पुष्कर कुमार ने जोकीहाट थाना में प्रेस कांफ्रेंस कर यह जानकारी दी।
एसपी हृदयकान्त ने मासिक अपराध गोष्ठी में रविवार को नशा और नशेबाजों के खिलाफ विशेष अभियान चलाने का निर्देश जिले के सभी थानेदारों को दिया गया था और इसी अभियान को लेकर जोकीहाट थानाध्यक्ष विकास कुमार आजाद ने अपने सारे सूचना तंत्र को अलर्ट करते हुए एक्टिव किया और इसी के तहत सिल्लीगुड़ी से जोकीहाट के रास्ते समस्तीपुर गांजा की तस्करी स्विफ्ट डिजायर गाड़ी संख्या-डब्लू.बी.06-7678 से होने की गुप्त सूचना मिली।जिसके बाद स्वयं थानाध्यक्ष और पुलिस अधिकारियों और बलों के साथ वाहन जांच में जुट गये।इसी क्रम में उक्त संख्या कार के आने पर जब पुलिस ने उनकी तलाशी ली तो पहली बार मे पुलिस को कार से किसी तरह की कोई भी आपत्तिजनक सामान नहीं मिला,जिसके बाद थानाध्यक्ष ने अपने सोर्स से फिर से बात की और सोर्स ने कार में गांजा होने का पुख्ता रिपोर्ट होने की बात कही।जिसके बाद पुलिस ने गहनता से जांच की तो पीछे के डिक्की में लगे साउंड बॉक्स के नट-वोल्ट को खोला तो उसमें से 14 बड़े और 10 छोटे पैकेट मिले।जो कुल वजन का नब्बे किलो से अधिक है।

मामले में दो गिरफ्तार
गांजा तस्करी के मामले में जोकीहाट थाना पुलिस ने ड्राइवर समेत दो को गिरफ्तार किया है।जिसमे एक गाड़ी का ड्राइवर अमरजीत पासवान जो वैशाली जिले के जंदाहा का रहने वाला है,जबकि दूसरा विकास कुमार गुप्ता समस्तीपुर के चकलालसाही का रहने वाला है।गांजा की डिलीवरी समस्तीपुर में समस्तीपुर से मुसरीघरारी के बीच एचपी और इंडियन पेट्रोल पम्प के बीच दिया जाना था।समस्तीपुर के रंजीत कुमार उक्त स्थान पर आकर गाड़ी समेत गांजा को अपने साथ ले जाने वाले थे।

सिल्लीगुड़ी में गांजा हुआ था लोड
ससरे एसडीपीओ पुष्कर कुमार ने बताया कि सिल्लीगुड़ी बाजार के समीप एक ढाबा से पश्चिमबंगाल का ही रहने वाला दीपक कुमार गाड़ी लेकर अकेले गया था और करीबन तीन घंटे बाद गाड़ी को वापस दे गया।जिसके बाद अमरजीत पासवान गाड़ी लेकर विकास गुप्ता के साथ समस्तीपुर के लिए निकला।

गांजा तस्करी में मामा-भांजा है शामिल…
पश्चिमबंगाल से बिहार में होने वाले गांजा की तस्करी में मामा और भांजा की जोड़ी काम कर रही है।पश्चिमबंगाल के 24 परगना में जहां मामा गांजा को उपलब्ध कराता है।वहीं बिहार समस्तीपुर के सिरदिलपुर में बैठा भांजा तस्करी से पश्चिम बंगाल से लाकर बिहार के अन्य इलाकों में तस्करी करवाता है।मामा-भांजा की जोड़ी पुलिस की तफ्तीश में पता लगी है।हालांकि पुलिस ने अनुसंधान को लेकर नामों का खुलासा नहीं किया है।सदर एसडीपीओ पुष्कर कुमार ने बताया कि पुलिस गांजा तस्करी के नेटवर्क के बैकवर्ड और फॉरवर्ड लिंक को खंगालने में जुटी है और मामले को लेकर कई पुख्ता सबूत पुलिस को मिले हैं,जिसके आधार पर पुकिस कार्रवाई कर नेटवर्क के अन्य सदस्यों को पकड़ेगी।